सुदामा पांडेय 'धूमिल'

सुदामा पांडेय 'धूमिल'

Monday, October 1, 2018

डायरी के अंश - १४.१२.१९६७ - सहारनपुर -

मैंने अपने यहाँ की धांधली को बहुत गहरे जाकर महसूस किया है. मेरे जैसा आदमी, जो ईमानदारी तथा देश निष्ठा का एकतरफा दवा करता है, जब यहाँ होने वाली वैधानिक धांधलियों को देखकर भी चुप रह जाता है, तो अचानक कई तरह के सवाल मन में पैदा होता है. क्या ये मेरी अपनी कमजोरी है कि मैं उन बेईमान लोगो का खुलकर विरोध नहीं कर पता ? आखिर यह क्यों है ? अपनी प्राथमिक योग्यताओं के प्रमाणपत्रों की कमी मुझे इस वक्त बुरी तरह खलती है. इतनी काम योग्यता वाले आदमी को जो सुविधा यह सरकारी नौकरी दे रही है वह शायद और नहीं मिलेगी ( जैसा की बेकरी का दिन है ) और यही वजह है कि मैं बहार कर दिए जाने के डर से चुप रह जाना अच्छा समझता हूँ. क्योकि बात उठने पर मेरे वह साथी, जो आड़ में इन बुराइयों और बेईमानियों से अपना विरोध व्यक्त करते है, शायद ही मेरा साथ दे. वे उन्ही बेईमान लोगो का पक्ष लेंगे, क्योकि वे भी मेरी तरह काम योग्यता के प्रमाण पत्र वाले सुविधा भोगी है. परिणाम होगा कि बात उठाने के लिए तो उठ जाएगी, मगर वो प्रमाणित हो पायेगी इसमें मुझे संदेह है. जहाँ तक जनतांत्रिक न्याय पद्दति का सवाल है, इस देश का कानून 'अपराधी' को भी बचत की उतनी और वैसी ही सुविधा देती है, जैसा और जितनी एक निर्दोष को. फिर इसके साथ यह स्पष्ट हो चला है ( भले ही न्याय और सत्य की घोषणायें भौकते रहे) कि इस देश में अपराधी वर्ग के पास इतनी सुविधा और साधन तो है ही कि वे न्यायलय के कटघरे में खड़े होने से पूर्व अपनी क़ानूनी सुरक्षा का बंदोबस्त आसानी से कर ले. दिक्कत उस समय और बढ़ जाती है कि असल अपराधी कभी मुकाम पे नहीं आता. वह अपने पूर्णतः सुरक्षित संवैधानिक नेपथ्य में रह कर कार्य सञ्चालन करता है. वह साधारण और निरपराध वर्ग के लोगों से ही अपने कार्यक्रम अनुरूप 'व्यक्तियों' का चुनाव करता है. कभी विशेष सुविधाओं कि लालच देकर या कभी उसकी किसी साधारण अपराध भावना का भय दिखा कर. और इस प्रकार अब हम पते है कि अपने आप में ही हम स्थानिक क्रियाओं के साझीदार हो गये है. जनतंत्र की - हमारे देश के जनतंत्र की सबसे बड़ी ट्रेजडी यह है कि हम अपने आप में अभियुक्त और अभियोक्ता दोनों है. चुनावों ने हमारे चुनाव करने के बोध को ही भ्रमित कर दिया है. जिससे असल और  नक़ल, अपराधी और अभियोक्ता के बीच कोई निर्णायक रेखा नहीं खींची जा सकती.

मैं अक्सर अपने लोगों के बावत सोचा है. देर - देर तक उनसे बहसें की है. अपने जैसे लोगो की पस्त हिम्मती और कमजोरियों से, एकजुट होकर काम करने की योजनाओं की लाभ से, भाषा, धर्म, देश, कानून, जाति और ना जाने कितने दूसरे शब्दों से घंटों खींचतान की है. मगर अंत सिर्फ वही, सुविधा पाकर जीते हुए लोगों की लाचारी. वे एक अगुआ चाहते है. इसकी वे पूरे पैतरे से मांग करते है. वे ईमानदारी के नाम पर एक आदमी की आर्थिक हत्या की योजना पर दस्तखत करते है. मगर सामने नहीं आना चाहते. उसके लिए जवाबदेह नहीं बनना चाहते. सारी लड़ाई  पर्दे के पीछे लड़ने की राय पर वे सहमत है. और एक दस्तखतनुमा शब्द का त्याग करके अपनी जिम्मेदारी से मुक्त हो जाना चाहते है. उन्होंने छोटे - छोटे सिद्धांतो पर मरने वाले लोगो के किस्से जबानी याद कर रखे है. बगैर यह ध्यान दिए कि उन दिनों समय कितना स्थिर था. मूल्य कितना मानी रखते थे. वे आज के सन्दर्भ में भी उठी रोमानी 'बलि-वाद' को चलाने में विश्वास रखते है और जैसे ही उनसे मतभेद होता है, वे अपनी औकात पे उतर आते है. ये मध्य वर्ग के मध्यवर्गी लोग कितनी आसानी से पूरी भीड़ में एक दूसरे का अपमान शब्दों कि मर्यादा से नीचे आकर कर सकते है, देख कर हैरत नहीं होती है. दरअसल, वैतनिक सुविधाभोगी या श्रमिक मजदूर की यह परंपरा रही है कि वह अपनी आवश्यकताओं के सन्दर्भ में जितना शब्द - दारिद्र रहा है, एक दूसरे को नंगा करने के मामले में उतना ही वाक्यपटु. गालियों के लिए उसे परंपरा के प्रति नत होना नहीं पड़ा है. वे उसे अयाचित मिली है. और उसके रक्त में शरीक होकर उसकी सांसो का हिस्सा बन गई है. ईश्वर उनके लिए, हमेशा एक गलत माध्यम के रूप में सहता चला गया है.

कथाकथित समाजवाद, अब एक सामाजिक मजाक होकर रह गया है.

अपने भीतर हम सभी ने सामूहिक रूप से 'निर्ममता' पैदा करने में महारत हासिल की है,जिसके जरिये बड़े आराम से अपने बगल में पड़े एक भूखे और नंगे, उपेक्षित प्राणी को नकार सके. नकारते हुए भी उसे अपने सामानांतर का मतदाता माने. उसे इस देश की जनसंख्या की एक महत्वपूर्ण इकाई भी स्वीकारें.

भाषा, धर्म और संस्कृति के नारों के पीछे एक आवेश पैदा करे और भीड़ का दोमुहाँ रूख अपने लाभ की तरफ मोड़ दे.

भाषा, धर्म और संस्कृति जैसे शब्दों पर, उसके समसामायिक मुहावरों पर मैंने अक्सर उन लोगो को पूरी उत्तेजना से बात करते हुए देखा है और शतप्रतिशत अकर्मण्यता की जिंदगी गुजारते हुए शतप्रतिशत सुविधाभोगी है. और जो असल में कामगार है, जिनको भाषा के अंधेरों में लूटा जा रहा है, जिनकी नीली नसों वाली मुट्ठियों में धर्म का सुदृढ़ दंड अब भी फहरा रहा है, जिनकी क्षुधाकुल डबडबाई हुई आँखों में पूरे देश की संस्कृति सुरक्षित है, वे चुप है. वे नंगे अर्धशिक्षित, भूखे कामगार, जिनकी किस्मत का पता नहीं, किस सामाजिक नियंत्रण और भविष्य के संयोजन की आशा में सभी अत्याचारों और अपमान की क्रूरताओं को तटस्थ होकर सह रहे है


Friday, February 9, 2018

धूमिल की अन्तिम कविता

आज धूमिल का पुण्यतिथि है. १० फरवरी १९७५ को किंग जॉर्ज हॉस्पिटल - लखनऊ में धूमिल ने हमेशा हमेशा के लिए साहित्य को अलविदा कह दिया. आज के दिन उनकी अंतिम कविता शेयर कर रहा हूँ. इस कविता को बिना कोई नाम दिए धूमिल चले गए और उनके चाहने वालो ने इस कविता को कभी "धूमिल की अन्तिम कविता" तो कभी "लोहे का स्वाद" जैसा शीर्षक दिया. बात फरवरी १९७५ के शुरूआती दिनों की है जब धूमिल ब्रेन कैंसर के असफल ऑपरेशन के बाद भयंकर पीड़ा से गुजर रहे थे.अपने छोटे भाई श्री कनैह्या पांडेय की इशारो से अपने पास बुलाया और अपनी अंतिम कविता उनसे लिखने को कहा. वो कहते थे "भाषा अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा रही है। कुछ हैं जो भाषा को खा रहे हैं।" धूमिल ने भाषा को उसकी जिम्मेदारी की जगह तैनात किया. अंदाजा नहीं लगाया जा सकता की उस भयंकर पीड़ा में किसी को कविता कैसे सूझ सकती है लेकिन धूमिल का अंदाज ही कुछ ऐसा था. वो कहते थे " कविता भाष़ा में आदमी होने की तमीज है।" और साथ ही साथ "कविता घेराव में किसी बौखलाये हुये आदमी का संक्षिप्त एकालाप है।" आज पुण्यतिथि पे उनको नमन करते हुए उनकी अंतिम कविता आप सबके लिए -
शब्द किस तरह
कविता बनते हैं
इसे देखो
अक्षरों के बीच गिरे हुए
आदमी को पढ़ो
क्या तुमने सुना कि यह
लोहे की आवाज़ है या
मिट्टी में गिरे हुए ख़ून
का रंग।

लोहे का स्वाद
लोहार से मत पूछो
घोड़े से पूछो
जिसके मुंह में लगाम है।


Wednesday, January 3, 2018

पटकथा (लम्बी रचना)

मुझे लगा कि एक विशाल दलदल के किनारे
बहुत बड़ा अधमरा पशु पड़ा हुआ है
उसकी नाभि में एक सड़ा हुआ घाव है
जिससे लगातार-भयानक बदबूदार मवाद
बह रहा है
उसमें जाति और धर्म और सम्प्रदाय और
पेशा और पूँजी के असंख्य कीड़े
किलबिला रहे हैं और अन्धकार में
डूबी हुई पृथ्वी
(पता नहीं किस अनहोनी की प्रतीक्षा में)
इस भीषण सड़ाँव को चुपचाप सह रही है
मगर आपस में नफरत करते हुये वे लोग
इस बात पर सहमत हैं कि
चुनावही सही इलाज है
क्योंकि बुरे और बुरे के बीच से
किसी हद तककम से कम बुरे कोचुनते हुये
उन्हें मलाल है, भय है
लाज है
दरअस्ल उन्हें एक मौका मिला है
और इसी बहाने
वे अपने पडो़सी को पराजित कर रहे हैं
मैंने देखा कि हर तरफ
मूढ़ता की हरी-हरी घास लहरा रही है
जिसे कुछ जंगली पशु
खूँद रहे हैं
लीद रहे हैं
चर रहे है
मैंने ऊब और गुस्से को
गलत मुहरों के नीचे से गुज़रते हुये देखा
मैंने अहिंसा को
एक सत्तारूढ़ शब्द का गला काटते हुये देखा
मैंने ईमानदारी को अपनी चोरजेबें
भरते हुये देखा
मैंने विवेक को
चापलूसों के तलवे चाटते हुये देखा